सोमवार, मई 02, 2016

दूर दो कदम ...


____________________________________________________________

 दूर दो कदम ही  , मंज़िल है !
हौसलों ने दिया ,ज़वाब अभी !

अँधेरे दूर से , डरा रहे मुझको ,
ना डूबा नहीं ! आफ़ताब अभी !
______________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------