शनिवार, सितंबर 03, 2016

मात .......



 मिली  जो  मात  ....
दिल  सिहर   गया  !
आसमां  टूटकर। ....
ज़मीं पे बिखर  गया !
------------डॉ  .प्रतिभा  स्वाति 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...