शनिवार, अगस्त 27, 2016

कोई पीर ..





बड़ी मायूस है ........ ख़ुशी मुझसे ,
ये ही की ........मैं कौन / कहाँ हूँ !
मिले तुमको .......तो बता देना ,.
मैं ग़म की ................इन्तेहाँ हूँ !
-------------------------------------------------डॉ प्रतिभा स्वाति














Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------