बुधवार, अप्रैल 20, 2016

मोहब्बत में...

ये जो ........राह-ए-मुहब्बत है ,
इसपे.... हरकोई चल गया है !
साथ....... बिरले रहते हैं, कोई
पीछे कोई आगे निकल गया है!
________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------