गुरुवार, अप्रैल 21, 2016

एक थी माँ ...एक थी बेटी

ये कहानी है 1984 से 2016 तक की :)
__________________________________ 1984 में जब एक माँ और बेटी खत्म हुईं तभी 1985 में  दूसरी माँ और बेटी का जन्म हुआ ;) और 2016 में इनका जीवन भी समाप्त हो गया ! ओह , ये रिश्ता पूरी उम्र नहीं चलता ? चलता होगा , कई जन्मों तक चलते हैं रिश्ते ! हो सकता है यहाँ पुनर्जन्म हो माँ - बेटी का . हो सकता है ,ऐसा न हो !
______________________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------