सोमवार, मार्च 16, 2015

बच्चों की / कौन सुनता है !

 बच्चों की , 
कौन सुनता है ?
इसलिए 
हो गए हम 
सयाने कुछ :)
____
तू /रोज़ 
बदलता है राहें !
मगर /मेरे लिए    हैं / मंज़िल                                  के माने कुछ ;)


-------------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------