बुधवार, जून 25, 2014

जागे भारत ...

           हिंदी साहित्य के इतिहास पर यदि हम एक सरसरी - सी नज़र डालें ,तो आदिकाल से आधुनिक काल तक के विभाजक वर्तुल में ----------- सबसे ज्यादा प्रभावित करता है 'वीर गाथा काल ' और 'भक्तिकाल .' 

तब जो भी लिखा गया / वो समय की मांग थी ?
उस समय की स्थितियां / ज़िम्मेदार  थीं  ?
समाज में माहौल ,उस तरह का था ?
हमारे नैतिक मूल्य ,उकसाते थे ' उस ' सृजन  के लिये ?

---------------- सवाल उठाना मेरा मक़सद नहीं है :) मुझे तो बस ये जानना है कि , अब साहित्य में सृजन के पुष्प खिलते तो हैं पर उनसे फ़ैलने वाली सुरभि वैसी क्यूँ नहीं ? यदि साहित्य /समाज का दर्पण है तो --------- आईना बदल गया है ....या चेहरे....या.......या..... !!!
---------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------