सोमवार, मई 12, 2014

गुलमोहर


------------ गुलमोहर ( चोका )--------------

 
   गुलमोहर !
   उठ  गया सोकर !
    देखती रही ,
  मैं भी , ख़ुश होकर !
   शहर  नया !
अज़नबी हैं सब !


मित्र -बन्धु -बांधव
 ,कोई न जब !
यहाँ  नहीं पराया !
अपनापन !
पाया / सब खो कर !
गुलमोहर !
पास / दूर होकर !
ख़ुश हूँ मैं / बोकर !
-----------------
-------------------------------- --------   डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------