बुधवार, दिसंबर 07, 2016

देवदूत द्वार पर .....


 मृत्यु शाश्वत  सत्य है ....
किसलिए  विलाप  हो ?
पापमय हो जीवन अगर....
 फ़िर क्यूँ न पश्चाताप हो ?
_____________ डॉ .प्रतिभा स्वाति

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------