सोमवार, दिसंबर 19, 2016

अभिषेक शुक्ल .....














      एक लेखक जैसे पारस ! जिसे पढ़कर पाठक बन जाए सोना ! सचमुच ये तारीफ़ नहीं ...आज की नस्ल में ,ये हुनर ख़ुदा सबको नहीं बक्श्ता ! मेरा  प्रिय अनुज :) शुभकामनाएँ !!!
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------