शनिवार, जुलाई 02, 2016

बुरा जो देखन मैं चला .....


         आज  सुबह  ही  से  ' कबीर  ' बड़े  याद  आ  रहे  हैं  ,जैसे  हिंदी  फिल्मों  में  मेले  में  बिछड़े  भाई  हों  मेरे  :) इसलिए  ये  तय  रहा  कि  आज  इस  पोस्ट  पर  प्रत्यक्ष  या  परोक्ष  उनका  प्रभाव  रहेगा  ! बातें  उतनी  खरी  नहीं  कह  पाऊँगी  पर  जो  सुबह  से  उनको  गुनगुनाए  जा  रही  हूँ  .....उससे  निज़ात  के  लिए  दिल  का  ग़ुबार  निकालना  तो  होगा  :)
______________________  

____  बुरा  जो  देखन  मैं  चला .......
_____बड़ा  हुआ  तो  क्या  हुआ........
_____ लकड़ी  जल  कोइला  भई .....
_____ दो  पाटन  के  बीच  में  ....
_____ पत्ता  टूटा  डाल  से  ......
_____________________________ जारी
_____________________________________डॉ. प्रतिभा  स्वाति 



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------