गुरुवार, जून 30, 2016

ज़ुर्म मुसलसल करती हूँ। ..


ग़र  ये  ज़ुर्म  है  तो  ,
मुसलसल  करती  हूँ  !
ज़ायदाद   ज़मीर  की  ,
तुझे बेदखल  करती  हूँ!
 ______________डॉ . प्रतिभा  स्वाति 



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------