मंगलवार, जून 14, 2016

कौन पढ़ता है अब किताबें ?

 ज़िंदगी  के  मसले -मसाइल 
अब हिसाबी हो गए हैं !
कौन पढ़ता है अब किताबें
ख़ुद  किताबी हो गए है !
____________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------