सोमवार, मार्च 28, 2016

डॉ. नारंग .....

 _______________________________________________________________________

__________________
_____________________

_____________________  डॉ . नारंग के लिए कुछ भी कहते या लिखते नहीं बन रहा .... कुछ भी नहीं .मन दुःख और देश की दुर्दशा पर जब कराहता है तब कहाँ कुछ कहा जाता है ! ..................कह ही तो रहा है देश का नेता -मंत्री और मिडिया , जी कहना उनका काम है . कहना उन ही का काम है !



 ______________________________________________________________________


       जो चेहरे काले पोत दिए जाने चाहिए , जिन गर्दनों में फांसी का फंदा होना चाहिए , जिनके जिस्मों को जिन्दा जला दिया जाना चाहिए , इनकी पैदाइश या परवरिश पर भी प्रश्न हो सकता है . पर ......यदि ऐसा ना हो किसी नीति या राजनीति के तहत तब ? क्यूँ इन्हें यूँ छुपाकर रखा जाता है ? क्यूँ नहीं इन मुजरिमों के इश्तेहार इनसे पहले वहां पहुंचा दिए जाते , जहाँ से ये गुज़रते हैं , जिससे लोग सचेत हो जाएँ .......हर सज़ा इनके ज़ुर्म के आगे छोटी है.....काश वो माँ बाँझ होती ये जिनकी औलाद हैं .....बस दो ही तो जात हैं अब, एक मुज़रिम दूसरा गैर -मुज़रिम ! 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------