रविवार, मार्च 27, 2016

auto liker



             यश पिपासुओं की एक बड़ी तादाद गूगल पर ख़ोज रही है auto likers की link . चित्र उसी हवाले से है . सवाल ये है की, हम चाहते क्या हैं ? क्या सोचते हैं ? और करते क्या हैं ? आज शुरुआत है ,दूरगामी भविष्य में जब दुष्परिणाम सामने आएँगे हल तब ही खोजे जाने का रिवाज़ है . जबकि  ज़ुरूरत आज है ,क्योकि देश का युवा जब इस ओर लगा ,तभी उसे सही दिशा-निर्देश की दरकार है , वरना वक्त और उर्जा  की बर्बादी यूँ ही जारी रहेगी .
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------