गुरुवार, मार्च 05, 2015

रंग ..यहाँ कहाँ


_________________
ज़मी से / 100 फीट उपर ,
यहाँ ,मेरा आशियाना है !
शोर ,बहुत अंतर में मगर ,
बाहर सबकुछ वीराना है !
________________________
यहाँ तक आ  नहीं सकता ,
रंग - गुलाल और रोली !
सातवी मंज़िल पर हूँ :)
msg आ रहे हैं 'हैपी होली'!
__________________________________________________

 सुनहरी भोर  ,आकाश नीला,
और रंग गुलाबी है यादों का !
 पेड़ों पे हरा रंग खिला मनमें,
और है शोख़ रंग वादों का !
_________________________
एक इन्द्र्धुनुष सा बुन गया है ,
आज घर और मेरे दरमियाँ :)
 तुम ही कहो , कैसे कह दूँ मैं,
की कोई रंग , यहाँ - कहाँ :)
__________________________

________________________डॉ.प्रतिभा स्वाति

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------