रविवार, मार्च 01, 2015

निकली हैं .. ख्वाहिशें कुछ


 ________________

निकली हैं , ख्वाहिशें कुछ ,
टहलने ज़रा !
बेज़ार थीं , सदी से ,
बहलने  ज़रा !
___________________

अपनी -सी हो गई हैं ,
 तनहाइयाँ हमारी !
साथी सभी पुराने लगे ,
हैं जलने ज़रा :)
___________________ डॉ. प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------