रविवार, फ़रवरी 08, 2015

सुख-दुःख ...साथी हैं !


__________________________________________________
 सुख - दुःख तो , साथी हैं ....
काम , सभी  को छलना है !
जैसा भी है ... जीवन-पथ....
सबको इसपर  चलना  है !
__________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति











Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------