बुधवार, फ़रवरी 11, 2015

चिरायु भव :)



_____________" चिरायु - भव " ये आशीष दिया करते थे ( हैं ) बुज़ुर्ग . जब उन्हें प्रणाम किया जाता है !
आशीर्वचन तो और भी हैं _____ जैसे - ख़ुश रहो , तरक्की करो , ख़ूब पढ़ो , भगवान सद्बुद्धि दे , सब मनोकामनाएँ पूर्ण हों और ...........  पर / मैं सिर्फ़  'चिरायु ' पर ही रुकी हूँ ! आख़िर , वह आयु कम क्यूँ होती जा रही है ? क्या वज़ह है ,कि पहले 100 साल औसत आयु थी और अब 60 !
_________________  कम होने कि वजह हमारा स्वास्थ्य ( गिरता हुआ ) और गिरते हुए स्वास्थ्य की वज़ह तनाव , और तनाव की वज़ह हैं 1-2-3-4-5-----तमाम ! अर्थात कुल मिलाकर ये तनाव हमें ' चिरायु ' नहीं होने देता ! तमाम आशीर्वाद फ़िज़ूल / ज़ाया हो रहे हैं ! हमारी phisical age यदि यूँ कम हो रही है ,तब क्या mental age अप्रभावित होगी ? इस विषय पर क्या प्रयोग हुए ? क्या तथ्य सामने आए ?ये सब सिर्फ़ चिन्तन या आशीष का विषय नहीं हैं . समाज की इकाई होने के नाते यदि शुरुआत ' हम ' से हो तो अपेक्षा का कटोरा भरे  ना भरे उसका आकार छोटा ज़ुरूर हो सकता है :)
__________ हम फ़िर से विषय पर आएँगे :) आख़िर चिरायु होने के लिए शुरुआत कहाँ से और कैसे की जाए ?
____________ तमाम सारे जवाबों में से / वरीयता किसे दी जाए ? आज / अभी इतना ही ...... :)
_____________ डॉ. प्रतिभा स्वाति









Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------