शुक्रवार, मई 23, 2014

सच ....


  सच  एक / मगर  दिखते  दो  हैं !
  एक तेरा है............. एक मेरा है ,
 जीवन ..................रैन बसेरा है ,
  जाते   हैं  सब  /  आते  जो  हैं !..... सच एक मगर ....

-------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------