शनिवार, अप्रैल 19, 2014

शतरंज ..

 **********************************
 वज़ीर  को खौफ़ / मौत  का !
शाह /शह  से  डर  जाते  हैं !
रण में /बेख़ौफ़ पियादे   हैं ,
हँसते -हँसते / मर जाते हैं !
--------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति 
********************************
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------