शनिवार, दिसंबर 21, 2013

फूल

-------------
                और  फिर से ,
                   फूल मुस्कुरा  दिया !
                   उसने खिलके कहा !
                      काँटों से मिलके कहा !
                      अय / ज़माने / ज़रा ,
                     अपने  गिरेबाँ देखो !
                      कब तुमने / मुझपे किये ,
                           कितने अहसां  देखो !
                          
                          काँटों  की है आदत !
                          फूलों की हिफाज़त !
-----------------------------------  डॉ . प्रतिभा  स्वाति



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------