शुक्रवार, नवंबर 22, 2013

सच




 ***************************
*************
                             इन सियाह !
                  सर्द  रातों  में !
                      अरमानों  की चिता !
                     बुझ भी गई / लेकिन ,
                       ये तपिश / जो 
                  अब भी / बाकी है !
                 जाने कैसा ,
                    सुकून, देती है !
                     ये जो / धुंआ - सा 
                        उठता है / अश्क 
                        बहने का सबब है !
                         तेरी यादें / अब ,
                         मुझे , रुलाती नही !
                           याद करके तुझे ,
                            अब / यूँ ही / अक्सर ,
                           बेसबब / मुस्कुराती हूँ !
                            दूर होकर / मैं तुझसे ,
                             खुदके पास आती हूँ !
-----------------------------------  डॉ . प्रतिभा स्वाति
******************************************
        

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------