गुरुवार, सितंबर 12, 2013

लेखन

                  यूँ  आज भी  मुझे याद नहीं , मेरी पहली कहानी कौन-सी थी . पर  सच कहूँ , तो क्या फर्क पड़ता है ? यदि याद आ  भी जाए . मेरे  कहने से  क्या  होगा ? ज़माने में हर बात को ज़ाहिर करना काफ़ी नहीं होता . उसकी  पुष्टि के लिये प्रमाण 
प्रस्तुत करने होते हैं .

                 तब  फिर अनिवार्य    क्या  है ?                                                        लिखना या लिखने  का प्रमाण ?जल्दी ही इस post को edit करुँगी/ तब अपने कुछ प्रकाशित कविता -कहानी - लेख / यहाँ चस्पा कर दूंगी :)
                    ----------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति
                       

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------