शनिवार, जुलाई 27, 2013

मन













  मन / अचानक
 एक तपस्वी की तरह
भीड़ से परे !
दूर / उस
क्षितिज की तरफ ,
बढ़ता ही गया !
उस , 
उत्तुंग शिखर की ,
                            ऊँची  शिखा !
                            अब / उसे ,
                             लौटने नहीं  देती !
                              वह / नितांत / अकेला 
                              ' समाधिस्थ ' 
------------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति  
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------