शुक्रवार, जुलाई 26, 2013

चित्र...

__________________ दरअसल चित्रों के लिए हमारा रूझान बड़ा नैसर्गिक है ! प्रकृति कितने रूप दिखाती है ! ये विधाता के चित्र / उसका सृजन , हमें उकसाता है , खींचता है , बांध ही तो लेता है _____ कभी फूल से / कभी तितली से ! कभी नदी से , लहर से तो कभी चाँद से , सितारों से !
________ डॉ. प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------