रविवार, फ़रवरी 12, 2017

ओस के पहरे....



ओस की एक झीनी -सी चादर जैसे,
                                                          किसी का गुरुर / लिपट गया मुझसे !

                                                          नेह की कोई स्मृति बेहद मधुर - सी,

                                                         देखिये eवही सुरूर लिपट गया मुझसे !


                                                                                    ___________________ डॉ.प्रतिभा स्वाति


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------