शनिवार, अगस्त 20, 2016

मेरे अंदर ....











मेरे  अंदर  
है  एक समंदर 
अकुलाता  -सा  !

------------ हाइकू  : डॉ. प्रतिभा  स्वाति 


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------