शुक्रवार, जुलाई 22, 2016

फ़र्क नहीं पड़ता। ...

   अब .......... फ़र्क  नहीं  पड़ता 
मुकर्रर ....... या  इर्शाद  से  !
लिख  दिया  दिले -नाशाद ने.
कह  दिया  दिले  -शाद  से  !

----------------------डॉ. प्रतिभा  स्वाति


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------