गुरुवार, मई 26, 2016

आज नहीं...













_______________________________________________
बो दिए हैं  बीज मैंने, 
उगाउंगी  मैं ही फ़सल !
फूल फल नज्र सबको ,
आज नहीं कल ,कल !
_________________________ डॉ .प्रतिभा स्वाति




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------