शुक्रवार, जनवरी 22, 2016

धुंध ..

 धुंध के पार 
 सुकून का विस्तार
 सदाबहार
---------  हाइकू : डॉ.प्रतिभा स्वाति






--------------------------------------------------- इन  दिनों शीशे की दीवार है उस कोहरे के और मेरे दरमियान . सातवी मंज़िल पर ये फ्लैट कई बार मुझे भ्रम में डाल देता है , क्या मैं बादलों के गाँव में हूँ ?
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------