रविवार, जून 07, 2015

दोहराएगी ....तारीख मुझे



















_____________________________________________________________________
 आरज़ू - तमन्ना -  ख्वाहिश की गठरी ,
  खोजती  है , खुलने  के  बहाने  कुछ  !
 दोहराएगी  ज़ुरूर , तारीख  मुझको ,
  बस  गुज़र  जाने  दे , ज़माने कुछ :)
________________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------