बुधवार, जून 10, 2015

कहते हैं किनारे .....


























___________________________________________________________
 आजकल कहते हैं किनारे ....
रोज़ ही मज़धार के क़िस्से !
भंवर को भरमाया  उसीने ....
न कुछ आया उनके हिस्से !
_________________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------