बुधवार, जनवरी 07, 2015

अनुशासन





_________________________________ 'अनुशासन'________________________
           बचपन से सुनती आई हूँ इस शब्द को - घर में / स्कूल में ! फिर कॉलेज तक पहुंचते ' ये ' कम सुनाई देने लगा !क्या  इसकी ज़ुरूरत नहीं रह गई थी वहां ? या फिर इसकी परिभाषा में तनिक तब्दीली आ गई थी ?
_________________________________________

-----------------------------  लेकिन जो भी हो ,इस शब्द से वाकिफ़ हर कोई है ! कोई इसे सुनकर ' बोर ' महसूस करता है ! इस बोरियत के पीछे जो वजह है / मैं उसे खोजने की कोशिश में हूँ ! जब  बच्चा किसी कड़वी दवा को न पीने की ठान ले / तब अच्छा चिकित्सक ये काम उसकी माँ को सौंप देता है :) आख़िर किसलिए ? वो जानता है ....औषधि और ज़िद के बीच समझौता वही करवा सकती है ! तो क्या अनुशासन के संदर्भ में भी हमे किसी ऐसे ज़हीन क़िरदार की दरकार है ?
_____________ डॉ. प्रतिभा स्वाति 



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------