बुधवार, दिसंबर 10, 2014

इसी ब्लॉग से ....














































































































































































































 -__




________________________________________________________---





-------------- कई बार बात सुनते कुछ हैं / होती कुछ और  है !--------- हम जो देखते हैं / वो वस्तुतः सच का दिखावा या भ्रम होता है ! और हमे बहुत बाद में हकीकत पता चलती है ---------- तब / हर बार अफ़सोस हो ये ज़ुरूरी नहीं !
----------------------------------- आज मै सीखने के जिस दौर से गुज़र रही हूँ / उसमें गलतियाँ होती है ! मैं उनसे डर नहीं सकती ,  न रुक सकती हूँ , न पीछे हट सकती हूँ ! प्रयोग ------- मेरा ज़ुनून हैं / ज़ुरूरत है या आदत , ये अभी बता पाना बहुत मुश्किल है ----------- मै वक्त के पीछे हो जाती हूँ बार -बार / पर  मेरा मन उस वक्त से सौ  कदम आगे रहता है ------------------- शेष फिर कभी ------
----------------------------------------------------------------------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति



_____________________________________________________________________________


















































































































































































































________________________ thnx :)
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------