गुरुवार, अगस्त 14, 2014

जयहिंद


     कदम- दर -कदम देश तरक्की कर रहा है !  और हालात  हैं की दिनोदिन गर्त से रूबरू हो रहे हैं ! आख़िर  कहाँ हम गलती कर रहे हैं ? कहाँ हो रही है चूक ?
-------------- असलियत जो भी हो ! वजहें जो भी हों ! हम अपने वतन से मोहब्बत के जज़्बे को दिल में धडकन की तरह संजोए हैं ! 
---------------------------------- जयहिंद
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------