शनिवार, मार्च 29, 2014

निगाहें ....

       

अब  छा  नहीं  पाती  / निराशा !
उजाला / चहुँ ओर करने लगी  हैं !

तमतमाने  लगा है / सूरज !
निगाहें  भोर करने लगी है !
----------------------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------