शनिवार, मार्च 15, 2014

होली ऐसी खेलिये :)

-

 *************************************
कबिरा   होली  खेलिये !

मन  का  बैर   भुलाय !
पिचकारी-रंग-गुलाल,
सबपै   देय   उड़ाय !!

सब  पर  देंय  उड़ाय !
प्यार मेँ रंग सब डूबें !
होली मेँ जल जाएँ रे,
बैर  भाव  के  मंसूबे!!
------------------------------- डॉ.प्रातिभा स्वाती
***************************************




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------