मंगलवार, दिसंबर 17, 2013

लालटेन /गाँव



                 अब कहाँ  दिखते  हैं ?
              लालटेन / कंदील !
            नहीं  झुटपुटाती  साँझ !

           अब कहाँ  उठता है धुंआ  ? 
           घर की चिमनियों  से ?
           चूल्हों से / सिगड़ियों से ?

           चौपालों  पे चिलम फूंकते लोग ?
            दोपहर में ढोलक को थाप देती ,
           ' बुलव्वा ' में ठठाती औरतें ?

            कहाँ रम्भाती है  गैय्या ?
              कहाँ रहे वो पीपल ?
               आंगन में फ़ुदकती गौरैय्या ?

              उफ़ / शहर में जन्मी !
              शहर में पली -बढ़ी -पढ़ी !
                एक बार गाँव क्या देख आई !
                 देहाती हो गई ? 

                 नहीं / एक  पूरा गाँव ,
                तमाम संस्कार और माधुर्य लिये ,
                 मुझमे / तुममे / हम सबमे ,
                  हर वक्त / साँस लेता है !

                  जब भी / घुटने लगे दम !
                  पाखंड और आडम्बर लिए ,
                   इस सभ्यता से / आधुनिकता से !
                   जाना / उस गाँव ज़ुरुर जाना !
                    जीने के लिये / जीवन के लिए !
                    असमय आए वार्धक्य में ,
                   लौटने को मचलते / मासूम 
                    निर्दोष बचपन  के लिए !
--------------------------------  डॉ . प्रतिभा स्वाति
                       
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------