रविवार, दिसंबर 15, 2013

अरमान



              दिल के किसी कोने में !
            दबी चिंगारी की तरह ,
                मिलते ही मौका ,
             अरमान / सुलगते हैं !

             सभीके  के होते  हैं !
               पर / पूरे कब होते हैं ?
              ये / धधकते हैं !
               और / हम / रोते हैं !

               पालते  हैं / जतन से !
                 पर ये / नहीं लौटाते ,
                  सुकून / चैन / करार !
                  इस आग़ में / सब स्वाहा !

                 इसी आग़ से / बहता है ,
                     दर्द का दरिया / समंदर !
                      हर दिल के अंदर !
                    और हम / देखते हैं ,
                    रोज़ / तमाशा !
                    आग़ / पानी का !
                       ख़ुद की कहानी का !
------------------------------ डॉ . प्रतिभा स्वाति 
                      
             



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------