शनिवार, दिसंबर 14, 2013

यूँ ही ...

     

                              सच कहिये तो 
                कभी भी / आंखों में 
                  नमी का / कोई भी 
                    कारण नही होता !
                   कारण / होते हैं ,
                        यूँ ही / अकारण !
                     किसी के होने पर 
                      उसके न होने का ,
                     गम  / मातम ?
                       ज़रा देर के दिखावे !
                       फिर / आ जाती है ,
                          हंसी / कभी 
                        खुदपर / अक्सर 
                          दूसरों पर / सबको !
                           आख़िर / क्यूँ ?
                            कब तक ?
------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------