रविवार, नवंबर 10, 2013

कबीर / ग़ालिब (1 - 4)

 ******************************************
कबिरा कान्हा कब मिले ?
मिले कब तुम हे राम *                             1.
प्रभू प्राण  का नाम है !
जग में क्यूँ कोहराम ?
******************************************
कबिरा सिक्का  चाम का *
तुगलक़ लिये चलाय !                              2.
अब तो  बापू  के  बिना ,                           
नोट  नहीं चल  पाय !
******************************************
कबिरा खड़े बजार  में ,
ग़ालिब मिल  गए राह !                            3.
इक दूजे से पूछते -----
है तुमको किसकी चाह ?
****************************************** 
कबिरा  माया मुंहजली ,
कईसे करूंअ  निबाह ?                             4 .
ग़ालिब बोले छांह  है ,
मत भरिये  यूँ आह ! 
****************************************** 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------