मंगलवार, अगस्त 06, 2013

सुनो कबीर .....


सुनो कबीर !
रे सुन भई साधो !
कलयुग है !

डॉ.प्रतिभा स्वाति

ये हाइकू है / और एक ' चोके ' का मुखड़ा  है ---------जिसकी अगली लाइंस
मैं / सुनो कबीर .... के साथ 1. 2. .... k क्रम में देती जाउंगी !
---------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------