शनिवार, अगस्त 03, 2013

2 हाइकू +

मन  पंछी  है !
उड़ता  दूर  तक !
सुदूर  तक !
-----------------------

 तन  पिंजरा !
है  ख़ाली  रह  जाता !
क्या  खोता पाता ?
-------------------------------- डॉ . प्रतिभा  स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------