बुधवार, जुलाई 31, 2013

आवाज़ ...

 -------------------------------------- 'आवाज़' 
वे !
घूमती  हैं !
सकल / सम्पूर्ण ,
ब्रम्हाण्ड में !
अमर /शाश्वत ,
सत्य बनकर !

म्र्त्युलोक में ,
प्राणमय /अद्भुत् ,
'ध्वनिपुन्ज '
पीछा करता है ,
स्वच्छन्द /सतत !
------------------------------------------डॉ. प्रतिभा स्वाति
Like


  
ये सच है
सब / नश्वर है !
और / ये भी / कि
कुछ भी
नष्ट नहीं होता !
-------------------------------- बस / रूप बदलता है !
------------------------------ वह वस्तु हो / या आत्मा !
----------------------------------------------------------------------- और आवाज़ ?
------------------------------------------------------------------------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------