शनिवार, दिसंबर 03, 2016

काला धन होता ...


काश की....... मेरे पास भी ,
सखि होता थोड़ा काला धन !
दीनहीन में...... जा बांटती ,
ख़ुश होता मुझसे हर निर्धन !
_______________________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...